आखिर बड़े राज्यों को छोड़ गोवा में ही क्यों दम लगा रहीं हैं ममता

0
98


पणजी: पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ने कहा कि गोवा में अगर कोई भाजपा को शिकस्त देना चाहता है तो उसे उनकी पार्टी का समर्थन करना चाहिए. गोवा को ‘ प्यारा, खूबसूरत और बहुत बुद्धिमान’ राज्य बताते हुए बनर्जी ने कहा कि उनकी पार्टी ने चुनाव लड़ने का फैसला राज्य को नियंत्रित करने या मुख्यमंत्री बनने के लिए नहीं किया है बल्कि चुनाव में गोवा के लोगों की मदद करने के लिए अपने अनुभव का इस्तेमाल करने के लिए किया है.

इस पार्टी से किया गठबंधन

गोवा के दो दिवसीय दौरे पर आई बनर्जी ने विश्वास जताया कि उनकी पार्टी एमजीपी के साथ राज्य में चुनाव जीतेगी. उन्होंने कहा, “ अगर कोई भाजपा को हराना चाहता है, तो यह उन पर निर्भर है कि वे हमारा समर्थन करें.” बनर्जी ने कहा कि उनके पास पश्चिम बंगाल की तरह गोवा के लिए भी एक योजना है, जिसे सत्ता में आने के छह महीने के अंदर तटीय राज्य में लागू किया जाएगा. बंगाल की मुख्यमंत्री ने कहा कि पहले उनकी पार्टी ने गोवा में चुनाव लड़ने को लेकर विचार नहीं किया था, लेकिन जब यह महसूस हुआ कि अन्य दल भाजपा को टक्कर नहीं दे रहे हैं, तो टीएमसी ने यहां चुनाव मैदान में कूदने का फैसला किया. बनर्जी ने कहा, “ इतने सालों में हम गोवा नहीं आए, लेकिन हमने महसूस किया कि कोई कुछ नहीं कर रहा है. 

कांग्रेस पर फिर किया बड़ा हमला

कांग्रेस का हवाला देते हुए बनर्जी ने कहा, “जब आप पश्चिम बंगाल में हमारे खिलाफ लड़ सकते हैं, तो हम गोवा में आपके खिलाफ क्यों नहीं लड़ सकते हैं.  हम आपके साथ काम करना चाहते हैं, लेकिन हम (अपने दम पर) लड़ेंगे. ” बनर्जी ने कहा कि गोवा में ‘खेल जतलो’ होगा. इससे पहले उन्होंने पश्चिम बंगाल के विधानसभा चुनाव प्रचार के दौरान खेला होबे का नारा दिया था.

गोवा ही क्यों?

असम त्रिपुरा और गोवा इन तीनों ही राज्यों कि जनसंख्या बाकियों की तुलना में कम है, पर क्या सिर्फ एक यही कारण कि ममता यूपी,पंजाब जैसे बड़े राज्यों का मोह छोड़ कर इस बार के चुनाव में अपनी पूरी ताकत गोवा में लगा रहीं है. पश्चिम बंगाल और गोवा को फिल्मों और फुटबॉल के साथ-साथ कई चीज़ें जोड़ती हैं. सियासत के जानकारों के अनुसार यह एक कारण हो सकता है पर सबसे बड़ा नहीं. राजनीति के बड़े पंडितों के अनुसार सबसे बड़ी वजह है इन राज्यों के वोटरों के सोचने का तरीका. इन राज्यों में जनता कॉस्मोपॉलिटन माइन्डसेट वाले हैं, जहां ममता को ज्यादा फायदा हो सकता है. इन राज्यों में चुनाव पूरा का पूरा राज्यों के मुद्दों पर लड़ा जा सकता है. 

यह भी पढ़ें: जम्मू कश्मीरः जवानों की बस पर आतंकी हमला, 3 की हालत नाजुक

Zee Hindustan News App: देश-दुनिया, बॉलीवुड, बिज़नेस, ज्योतिष, धर्म-कर्म, खेल और गैजेट्स की दुनिया की सभी खबरें अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें ज़ी हिंदुस्तान न्यूज़ ऐप.





Source link