इस गंभीर बीमारी को झेल चुके हैं Remo D’Souza, जरा सी लापरवाही ले सकती है जान, जानिए लक्षण और बचाव

0
113


भूपेंद्र राय: बॉलीवुड के मशहूर डांसर और कोरियोग्राफर रेमो डिसूजा 46 वर्षीय रेमो डिसूजा एक अच्छे डांसर और कोरियोग्राफर के साथ-साथ काफी अच्छे फिल्ममेकर भी हैं, लेकिन 1 साल पहले उनकी अचानक तबीयत खराब हुई थी, इस खबर ने उनके फैंस को चौंका दिया था. जब रेमो डिसूजा की तबीयत अचानक खराब हुई तो उनकी पत्नी लिजेल डिसूजा ने बताया था कि वो वक्त परिवार के लिए किसी सदमे से कम नहीं था. दरअसल, रेमो डिसूजा को हार्ट अटैक आया था.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, दिसंबर 2020 में बॉलीवुड के मशहूर डांसर और कोरियोग्राफर रेमो डिसूजा को सीने में दर्द की शिकायत थी, जिसके बाद उन्हें मुंबई के कोकिलाबेन धीरूभाई अंबानी अस्पताल में भर्ती करवाया गया था, जहां डॉक्टरों ने इस बात की पुष्टि की थी उन्हें हार्ट अटैक की आया था. इसके बाद उनकी एंजियोप्लास्टी सर्जरी (angioplasty surgery) की गई. अब उनकी हालत ठीक है. 

आइए इस खबर में हम आपके लिए हार्ट अटैक के बारे में जानकारी दे रहे हैं कि आखिर ये क्या है, कितना खतरनाक है, इसके लक्षण क्या हैं और इससे बचाव कैसे किया जा सकता है….?

क्या है हार्ट अटैक (what is Heart attack) 
Johns Hopkins के मुताबिक, हार्ट अटैक का मेडिकल नाम मायोकार्डियल इंफार्क्शन (Myocardial Infarction) होता है. जिसमें दिल तक ऑक्सीजन और खून पहुंचाने वाली कोरोनरी आर्टरी में ब्लॉकेज आ जाती है. जिससे हार्ट मसल्स को पर्याप्त ऑक्सीजन और खून नहीं मिल पाता और वो डैमेज होने लगती है.

दिल का दौरा पड़ने के लक्षण (Symptoms of Heart Attack)

हेल्थ एक्सपर्ट्स कहते हैं कि हर मरीज में हार्ट अटैक के लक्षण अलग-अलग हो सकते हैं. जैसे-

  • सीने में दर्द तेज होना
  • पसीना आना
  • सांस फूलना
  • उल्टी, जी मिचलाना
  • चक्कर आना
  • अचानक थकान होना
  • सीने के बीच में कुछ मिनट तक तेज दर्द, भारीपन या सिकुड़न महसूस होना
  • दिल से कंधे, गर्दन, हाथ और जबड़े तक जाने वाला दर्द
  • धड़कन तेज या धीमी हो जाना

हार्ट अटैक के कारण – Causes of heart attack

हार्ट अटैक काफी खतरनाक होता है, जिसके कारण जान भी  जा सकती है. हाल ही में एक्टर पुनीत राजकुमार और सिद्धार्थ शुक्ला का निधन भी हार्ट अटैक के कारण हुआ था. Johns Hopkins के अनुसार, हार्ट अटैक आने के पीछे निम्नलिखित कारण हो सकते हैं. नीचे जानिए उनके बारे में….

  • खराब जीवनशैली
  • हाई ब्लड प्रेशर
  • हाई कोलेस्ट्रॉल
  • हार्ट डिजीज की फैमिली हिस्ट्री
  • डायबिटीज
  • धूम्रपान और शराब का सेवन
  • अत्यधिक तनाव में रहना

डॉक्टर से कब मदद लेनी है?
हार्ट अटैक के लक्षण दिखने पर तुरंत डॉक्टर के पास जाएं. आपके शरीर में हल्के से शारीरिक बदलाव नजर आने पर ही फौरन डॉक्टर के पास जाने की कोशिश करें. लक्षणों को देखकर इसे अन्य समस्या समझने की गलती ना करें, क्योंकि यह आपके लिए खतरनाक हो सकता है.

हार्ट अटैक से बचने के उपाय

  1. यदि आपको कोई हृदय रोग हो तो अपने डॉक्टर से परामर्श करें.
  2. हेल्दी डाइट लें और वजन को कंट्रोल में रखें
  3. धूम्रपान न करें और रोज एक्सरसाइज जरूर करें
  4. ज्यादा तनाव न लें, अगर तनाव है तो उसे दूर करें
  5. यदि आपको मधुमेह हो तो उसके लिए सलाहित दवाइयों का उपयोग करें.
  6. अपने रक्त के शुगर के स्तर की जांच कराते रहें.

कैसे किया जाता है हार्ट अटैक का इलाज
हार्ट अटैक आने के बाद मरीज की एंजियोप्लास्टी की जाती है. यह एक ऐसी सर्जिकल प्रक्रिया है, जिसमें हृदय की मांसपेशियों तक ब्लड सप्लाई करने वाली रक्त वाहिकाओं को खोला जाता है. मेडिकल भाषा में इन रक्त वाहिकाओं को कोरोनरी आर्टरीज़ कहते हैं. डॉक्टर अक्सर दिल का दौरा या स्ट्रोक जैसी समस्याओं के बाद एंजियोप्लास्टी का सहारा लेते हैं. यह काफी अच्छी ट्रीटमेंट है.

ये भी पढ़ें: इस बीमारी ने छीन लिया था दमदार आवाज का ‘महारथी’, जानें लक्षण और बचाव

यहां दी गई जानकारी किसी भी चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है. यह सिर्फ शिक्षित करने के उद्देश्य से दी जा रही है.​

WATCH LIVE TV





Source link