इस पाक खिलाड़ी ने भारत को दिलाई चैंपियंस ट्रॉफी की याद, कहा- वर्ल्ड कप में भी देंगे मात

0
45


नई दिल्ली: टी20 विश्व कप का आयोजन 17 अक्टूबर से यूएई और ओमान में होना है. भारत (India) और पाकिस्तान (Pakistan) को एक ही ग्रुप में रखा गया है, ऐसे में भारत और पाकिस्तान के बीच मुकाबला 24 अक्टूबर को दुबई में होगा. इस महामुकाबले को लेकर पाकिस्तान के तेज गेंदबाज हसन अली ने बयान दिया है.

चैंपियंस ट्रॉफी की तरह भारत को हराएंगे: हसन 

पाकिस्तान ने 2017 चैंपियंस ट्रॉफी के फाइनल में भारत को हराया था. हालांकि, इसके बाद उसे भारत से 2018 एशिया कप और 2019 विश्व कप में हार का सामना करना पड़ा था. लेकिन पाकिस्तान के तेज गेंदबाज हसन अली ने कहा है कि उनकी टीम आईसीसी टी20 विश्व कप में जब भारत के खिलाफ मुकाबले में उतरेगी तो 2017 चैंपियंस ट्रॉफी के फाइनल को दोहराने की कोशिश करेगी. 

हसन ने कहा, ‘जब हमने 2017 में चैंपियंस ट्रॉफी जीती थी तो यह हमारे लिए काफी अच्छा समय था. हम टी20 विश्व कप में उन्हें हराने की कोशिश करेंगे. हम अपना सर्वश्रेष्ठ देंगे. भारत के खिलाफ खेलने में हमेशा दबाव रहता है क्योंकि दोनों देशों के प्रशंसकों को काफी उम्मीदें होती हैं. हम किसी भी तरह मैच को जीतने की कोशिश करेंगे. यूएई में वातावरण स्पिनरों के अनुकूल होता है. लेकिन विविधता से गेंदबाजी करने वाले तेज गेंदबाज भी प्रभावी साबित होते हैं’.

टी20 वर्ल्ड कप में पाकिस्तान से कभी नहीं हारी टीम इंडिया

वहीं वर्ल्ड कप की बात करें तो भारत का रिकॉर्ड पाकिस्तान के खिलाफ बेहद अच्छा है. भारत और पाकिस्तान के बीच टी20 वर्ल्ड कप में अब तक 5 मैच हुए हैं जिसमें से पांचों मुकाबले टीम इंडिया ने जीते हैं. आखिरी बार 2016 वर्ल्ड कप के मुकाबले में पाकिस्तान ने पहले खेलते हुए 5 विकेट पर 118 रन बनाए थे. टीम इंडिया ने 4 विकेट खोकर लक्ष्य हासिल कर लिया था.

9 साल से टी20 में भारत से नहीं जीता पाकिस्तान

भारत और पाकिस्तान के बीच विवादों की वजह से द्विपक्षीय सीरीज नहीं हो रही हैं. ऐसे में दोनों टीमें केवल आईसीसी के बड़े टूर्नामेंट में ही एक दूसरे के साथ भिड़ती हैं और ऐसे में इन दोनों टीमों के बीत एक मुकाबला भी फैंस के लिए बड़े जश्न की तरह हो जाता है.

इन टूर्नामेंट्स की बात करें तो भारत का पलड़ा भारी हैं. दोनों के बीच टी20 में अब तक कुल 8 मुकाबले हुए हैं, जिसमें से टीम इंडिया ने 7 में जीत दर्ज की है, जबकि पाकिस्तान ने महज एक मुकाबले में जीत दर्ज की. बता दें कि पाकिस्तान को अंतिम जीत 2012 में मिली थी. ऐसे में पाकिस्तान की टीम 9 साल से हमसे जीती ही नहीं है. 





Source link