इस बीमारी के चलते अमित शाह को करानी पड़ी थी सर्जरी, पूरे शरीर में पड़ जाती हैं गांठें, जानिए लक्षण और बचाव

0
47


गर्दिश में सितारे/भूपेंद्र राय: Amit Shah is suffered from Lipoma disease: राजनीति के ‘चाणक्य’ कहे जाने वाले केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह एक गंभीर समस्या से जूझ चुके हैं. उन्हें एक ऐसी बीमारी हुई थी, जिसमें असहनीय दर्द होता है. इस बीमारी के चलते उन्हें सर्जरी तक करानी पड़ी थी. वे Lipoma से पीड़ित थे. हेल्थ एक्सपर्ट्स कहते हैं कि अगर सही समय पर इसका इलाज नहीं किया जाए तो इस बीमारी में पूरे शरीर में चर्बी की गांठें बन जाती हैं, जो बेहद खतरनाक हो सकती हैं. 

लिपोमा की बीमारी (disease of lipoma) को डॉक्टर प्रकार का छोटा ट्यूमर मानते हैं, इससे होने वाले दर्द से निजात दिलाने के लिए डॉक्टर ऑपरेशन की सलाह देते हैं. अमित शाह को गर्दन के नीचे वसा जमा होने के कारण यह बीमारी हुई थी, जो उन्हें काफी परेशान कर रही थी. लिहाजा 04 सितंबर 2019 को अहमदाबाद में अमित शाह ने भी लिपोमा का ऑपरेशन कराया था और अब वह पूरी तरह से ठीक हैं. आइए जानते हैं कि आखिर लिपोमा किस तरह ही बीमारी है और इसके लक्षण क्या हैं...

क्या होता है लिपोमा (Lipoma)
मायउपचार के अनुसार, Lipoma मांस का एक टुकड़ा या गांठ होती है, जो शरीर के कई हिस्सों में उभर आती है. कई मामलों में धीरे-धीरे इसका आकार बड़ा होता जाता है. अगर गर्दन के हिस्से में हो जाए तो सपने और सांस लेने में तकलीफ होती है.

लिपोमा के लक्षण (Symptoms of Lipoma)

  • चर्बी की गांठ स्पर्श करने पर मुलायम होती है. 
  • चर्बी की गांठ उंगली से आसानी से हिलाई जा सकती है.
  • चर्बी की गांठ त्वचा के हल्का सा नीचे होती है.
  • इसे स्किन के ऊपर भी देखा जा सकता है.

आखिर क्यों होता है लिपोमा? 
चर्बी की गांठ का कारण पूरी तरह से समझा नहीं जा सका है. ये ज्यादातर परिवारों में पीढ़ी दर पीढ़ी होती हैं, इसलिए इनके विकास में आनुवांशिक कारकों की एक महत्वपूर्ण भूमिका होती है. एक्सपर्ट्स की मानें तो चर्बी की गांठ अक्सर चोट के बाद दिखाई देती है, हालांकि डॉक्टरों को यह नहीं पता लगता कि क्या यह चोट की वजह से ही बनती है. कुछ लोग जो मैडलंग रोग जैसी दुर्लभ बीमारी से ग्रस्त हैं, उन्हें लिपोमा होने का अधिक जोखिम होता है.

इन हिस्सों में हो सकती है लिपोमा
आमतौर पर लिपोमा गर्दन, कंधे, पीठ, पेट, हाथ और जांघों की त्वचा के नीचे होता है. लिपोमा का पता नरम और मुलायम और उंगली से छूकर आसानी से लगाया जा सकता है. सामान्य रूप से ये पांच सेंटीमेटर के व्यास में होते हैं, जो नसों पर दबाव डालते हैं, जिससे दर्द होता है.

कब लेनी चाहिए डॉक्टर की सलाह?
अगर आप अपने शरीर के किसी भी हिस्से में गांठ या सूजन देखते हैं तो ऐसी स्थिति में डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए. इसके अलावा यदि गांठ बढ़ती जाए या इससे दर्द का अनुभव हो तो ऐसे में बिना देर किए डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए.

कैसे हटाया जाता है लिपोमा ?
myUpchar के अनुसार, लिपोमा को खत्म करने के लिए डॉक्टर अक्सर इसका ऑपरेशन करते हैं. ऑपरेशन में त्वचा पर एक छोटा सा ऑपरेशन करता है. इसके बाद लिपोमा को स्किन से बाहर निकाला जाता ह.  हालांकि पूरी तरह से लिपोमा को हटाने के लिए बड़े ऑपरेशन की भी जरूरत पड़ सकती है.

लिपोमा से बचने के घरेलू उपाय (home remedies protect from lipoma) 

  1. अगर आपके शरीर पर कोई गांठ हैं तो उस पर रूई से रोज नींबू का पानी लगाए, इसमें एंटी इंफ्लेमेटरी गुण जाते हैं, जो सूजन को कम करने में मदद कर सकते हैं. 
  2. सेब का सिरका भी गांठ पर लगाया जा सकता है, क्योंकि इसके इस्तेमाल से शरीर डिटॉक्सीफाई होता है, इम्यून सिस्टम बेहतर होता है और रक्त संचार भी ठीक हो सकता है.
  3. गांठ पर हल्दी का पेस्ट लगाने से प्रभावित हिस्सा जल्द ठीक होने लगता है. हल्दी में एंटीसेप्टिक, एंटीइंफ्लेमेटरी और एंटीमाइक्रोबियल गुण होते हैं. ये सूजन को कम करने और बैक्टीरिया को दूर करने का काम करते हैं.
  4. आपको खानपान का भी विशेष ध्यान रखना चाहिए. विटामिन ए और विटामिन ई से भरपूर खाद्य पदार्थों का भरपूर सेवन करें और पानी भरपूर मात्रा में पिएं.

ये भी पढ़ें: गर्दिश में सितारे: इस बीमारी ने छीन ली ‘सलमान खान की आवाज’, जानें कितनी है खतरनाक, ये हैं लक्षण और बचाव

यहां दी गई जानकारी किसी भी चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है. यह सिर्फ शिक्षित करने के उद्देश्य से दी जा रही है.





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here