इस बीमारी ने Games of Thrones की लीड एक्सट्रेस का कर दिया था ये हाल, जानें खतरनाक लक्षण और इलाज

0
6


बीमारी के मारे, ये सितारे/सुरेंद्र अग्रवाल: 2011 में HBO पर Games of Thrones ड्रामा सीरीज आई थी. जिसने पूरी दुनिया के दर्शकों को क्रेजी कर दिया था. भारत में भी ऐसे कई लोग हैं, जो GOT की सीरीज के 8 सीजन कई बार देख चुके हैं. इस सीरीज में Emilia Clarke ने Daenerys Targaryen का किरदार निभाया था. जिसने उनको खूब फेमस कर दिया. लेकिन यह बहुत कम लोग जानते हैं कि Emilia Clarke पहले सीजन के दौरान ही खतरनाक बीमारी की चपेट में आ गई थी. बता दें कि, GOT की लीड एक्ट्रेस को दूसरे सीजन के दौरान भी इस खतरनाक बीमारी को झेलना पड़ा था.

इस खतरनाक बीमारी ने Emilia का कर दिया था बुरा हाल
Emilia ने एक इंटरनेशनल अखबार को बताया था कि उन्हें अपनी जिंदगी खतरे में नजर आ रही थी और उन्हें नहीं लगता था कि वह बच भी पाएंगी. दरअसल, उन्हें subarachnoid hemorrhage हुआ था. यह एक तरह की ब्लीडिंग होती है, जो दिमाग और उसके पास मौजूद मैंब्रेन के बीच हो जाती है. इन दोनों के बीच की खाली जगह को subarachnoid space कहा जाता है. यह ब्लीडिंग अक्सर दिमाग की aneurysm रक्त धमनी के फटने से होती है.

‘बीमारी के मारे, ये सितारे’ सीरीज के सभी आर्टिकल पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें…

Subarachnoid Hemorrhage के लक्षण
मायोक्लीनिक के मुताबिक, Subarachnoid Hemorrhage के कारण निम्नलिखित लक्षण दिखने लगते हैं. जैसे-

  • गंभीर सिरदर्द
  • बेहोश होना
  • जी मिचलाना
  • उल्टी
  • नजर का डबल हो जाना
  • बोलने में परेशानी
  • पलकों का गिरना
  • रोशनी देखकर दर्द होना, आदि

Subarachnoid Hemorrhage की जांच
इस बीमारी की जांच करने के लिए डॉक्टर निम्नलिखित टेस्ट करने की सलाह देते हैं. जैसे-

  • सीटी स्कैन
  • एमआरआई
  • सेरेब्रल एंजियोग्राफी
  • एक्सरे
  • लंबर पंक्चर, आदि

ये भी पढ़ें: बीमारी के मारे, ये सितारे: बैटिंग करते हुए टूट गया था Anil Kumble का जबड़ा, ठीक करने के लिए होती है ये सर्जरी

Subarachnoid Hemorrhage का इलाज
मायोक्लीनिक के अनुसार, Subarachnoid Hemorrhage का इलाज निम्नलिखित तरीके से किया जा सकता है. जैसे-

  1. सर्जन स्कैल्प में चीरा लगाकर ब्लीडिंग होने वाली जगह की जांच करके ब्लीडिंग को रोकने के लिए रक्त धमनी पर मेटल क्लीप लगाई जाती है.
  2. डॉक्टर endovascular embolization करने की सलाह दे सकता है. जिसमें ब्लीडिंग रोकने के लिए aneurysm में प्लेटिनम कॉइल प्रत्यारोपित की जाती है. आपको बता दें कि यह प्रक्रिया एक से ज्यादा बार भी करनी पड़ सकती है.

नोट- सूचित किया जाता है कि ‘गर्दिश में सितारे’ सीरीज का नाम बदलकर ‘बीमारी के मारे, ये सितारे’ कर दिया गया है.

यहां दी गई जानकारी किसी भी चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है. यह सिर्फ शिक्षित करने के उद्देश्य से दी जा रही है.





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here