क्या होता है कार में ट्रैक्शन कंट्रोल सिस्टम, जानिए ये आपकी सुरक्षा के लिए क्यों है जरूरी?

0
26


हाइलाइट्स

ट्रेक्शन कंट्रोल सिस्टम गाड़ी को सड़क पर फिसलने से रोकने का काम करता है.
इसके अलावा दुर्घटना होने से पहले यह ड्राइवर को वार्निंग भी भेजता है.
इसमें सेंसर लगे होते हैं. इसकी मदद से कार को नियंत्रित करने में आसानी होती है.

भारत ही नहीं बल्कि दुनिया के कई देशों में अलग-अलग कंपनी की गाड़ियां प्रत्येक दिन लॉन्च होती है. इसे खरीदने से पहले लोग इसकी कीमत और फीचर्स के ऊपर ध्यान देते हैं. अपने बजट के अनुसार ही ज्यादातर लोग गाड़ियां खरीदने हैं. आप भी किसी कार को खरीदने की प्लानिंग में हैं. वैसे मैं आपको यह जानना बहुत जरूरी है कि इसमें किस फीचर का होना अनिवार्य है. ट्रेक्शन कंट्रोल सिस्टम की वजह से दुनिया में लाखों लोगों की जान बच जाती है. 

लोगों की सुरक्षा के लिए यह एक बहुत ही कामयाब फीचर है. बहुत कम लोग ऐसे हैं जो इसके बारे में जानते हैं. इसे इस्तेमाल करना सीख जाने के बाद एक्सीडेंट होने से बच सकते हैं. 

यह भी पढ़ें : 3 वेरियंट्स में लॉन्च होगी Mahindra XUV 400 EV, सामने आई लॉन्च डिटेल

क्या होता है ट्रैक्शन कंट्रोल सिस्टम
यह एक सेफ्टी फीचर है. आज के समय में ज्यादातर गाड़ियों में ट्रेक्शन कंट्रोल सिस्टम देखने को मिल जाती है. इसका मुख्य काम सड़कों पर गाड़ी चलाते समय इसे फिसलने से रोकना है. सिर्फ इतना ही नहीं कई बार ऐसा भी होता है, जब आगे की पहिया फिसलने लगती है और पीछे से इसे कंट्रोल कर पाना काफी मुश्किल होता है. ऐसी स्थिति में भले ही आगे की तरफ से गाड़ी फिसले लेकिन पीछे से इस फीचर की मदद से गाड़ी नियंत्रण में आ जाती है.

ट्रैक्शन कंट्रोल सिस्टम कैसे करता है काम
ट्रेक्शन कंट्रोल सिस्टम सेंसर की मदद से दुर्घटना को भांप इसकी जानकारी ड्राइवर को देता है. जब भी सड़क पर किसी भी तरह की फिसलन महसूस होती है तो आप ऐसी स्थिति में डेस बोर्ड पर वार्निंग लाइट के ऊपर एक नजर जरूर डालें. इसे ऑन होने पर गाड़ी संभलकर चलाएं. इसके फायदे के साथ ही नुकसान भी हैं. इसे लंबे समय तक नजर अंदाज करने से इंजन की पावर धीरे धीरे कम हो जाती है. सिर्फ इतना ही नहीं इससे गाड़ी का इंजन भी सीज हो सकता है.

यह भी पढ़ें : भारत में दौड़ती दिखेगी हीरो-हार्ले बाइक, दोनों कंपनियां मिलकर लॉन्च करेंगी प्रीमियम मोटरसाइकिल

लगातार लाइट ऑन रहने पर करें ये काम
बारिश के मौसम में या फिर बर्फीले स्थान पर फिसलन होने पर इसे ऑन होना आम बात है. अगर गाड़ी में बगैर फिसलन वाली सड़क पर भी यह लाइट ऑन हो तो ऐसी स्थिति में आपको टायर्स बदलने की जरूरत है. सिर्फ इतना ही नहीं गर्मी के मौसम में सड़क पर तारकोल पिघलने से भी कई बार यह लाइट ऑन हो जाती है. गाड़ी को चलाते समय इसे नियंत्रण में रखें. नियंत्रण से बाहर जाने पर दुर्घटनाएं हो सकती है. कई बार इसमें लोगों की जानें भी चली जाती है.

Tags: Auto News, Car, Car Bike News



Source link