घरवालों के पास फीस के पैसे नही थे: रिलेटिव के सपोर्ट से की पढ़ाई, मेहनत कर 98% लाई बेटी

0
12


जयपुर7 घंटे पहले

सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन 12th का रिजल्ट जारी हो गया है। इस बार अजमेर रीजन का रिजल्ट 96.1 पर्सेंट रहा है। इसमें जयपुर के स्टूडेंट्स ने भी शानदार परफॉर्म किया है। इनमें जयपुर की नेहल जैन ने 99%, लव कुमावत ने 98.6, आयुष्य जोशी ने 98%, दिशा अग्रवाल ने 98% और कृतिका कुंद्रा 97.62% मार्क्स हासिल किए हैं। 98% लाने वाली दीक्षा ने बताया कि घर की हालात इतनी खराब हो गए थे कि मेरे स्कूल की फीस जमा कराने तक के पैसे नहीं थे। जिसकी वजह से मैं भी काफी परेशान रहने लगी थी। लेकिन कुछ रिलेटिव और फैमिली फ्रेंड्स ने हमें सपोर्ट किया।

नेहल को पढ़ाई के साथ गिटार बजाना काफी पसंद है।

पेरेंट्स डॉक्टर है लेकिन बेटी ने चुनी आर्ट्स
CBSE 12th आर्ट्स में 99% मार्क्स हासिल करने वाली नेहल जैन ने बताया कि मैं हर दिन 8 से 9 घंटे पढ़ती थी। मेरे पास थ्योरी सब्जेक्ट थे। इसलिए मैंने एनसीईआरटी की बुक्स को लगातार रीड किया था। मैं सैंपल पेपर सॉल्व करने के साथ आंसर राइटिंग करती थी। जिससे मुझ में कॉन्फिडेंस डिवेलप हुआ। नेहल ने बताया कि मेरी फैमिली में सभी लोग साइंस बैकग्राउंड से है। मेरे पेरेंट्स दोनों डॉक्टर हैं। लेकिन मैंने आर्ट्स को चुना। क्योंकि मैं डीयू में एडमिशन लेकर UPSC की तैयारी करना चाहती हूं। उन्होंने बताया कि तैयारी के दौरान कई बार मैं डिमोटिवेट हो जाती थी। ऐसे में खुद को मोटिवेट और स्ट्रेस फ्री करने के लिए मैं गिटार बजती थी।

लव ने बताया कि एग्जाम के दौरान कई बार एंजायटी का शिकार भी हो गया था।

लव ने बताया कि एग्जाम के दौरान कई बार एंजायटी का शिकार भी हो गया था।

स्ट्रेस मिटने के लिए देखता था वेब सीरीज
12th बोर्ड्स के साइंस स्ट्रीम में 98.6% मार्क्स लाने वाले लव कुमावत ने बताया कि मैंने 11th से नीट की तैयारी शुरू कर दी थी। जिसका फायदा मुझे 12th एग्जाम में भी हुआ। लव ने बताया कि लॉकडाउन और कोरोना के बाद काफी स्ट्रेस और एंजाइटी रहती थी। जिसे दूर करने के लिए मैं वेब सीरीज और वेब शो देखना था ताकि रिलैक्स हो सकूं। हालांकि मैंने उसे अपनी आदत नहीं बनने दिया और स्टडी पर फोकस किया। फिलहाल मैंने नीट का एग्जाम भी दिया है। मुझे उम्मीद है कि मेरी अच्छी रैंक आएगी और मैं देश के अच्छे कॉलेज से MBBS कर लोगों की मदद कर सकूंगा।

एग्जाम की प्रिपरेशन के दौरान कृतिका डांस कर खुद का स्ट्रेस मिटाती थी।

एग्जाम की प्रिपरेशन के दौरान कृतिका डांस कर खुद का स्ट्रेस मिटाती थी।

जॉब नहीं करुंगी, एंटरप्रेन्योर बनकर लोगो को जॉब दूगी
12th कॉमर्स स्ट्रीम में 97.62% कृतिका कुंद्रा ने बताया कि इलेवंथ में मेरा रिजल्ट अच्छा नहीं रहा था। इसलिए मैंने 12th की स्टार्टिंग से ही फाइनल एग्जाम की तैयारी शुरू कर दी थी। मैंने अपने कोर्स को छोटे-छोटे पार्ट में डिवाइड किया। उसका फायदा मुझे फाइनल एग्जाम में हुआ और इस बार 11th से मेरे 10% मार्क्स ज्यादा आए हैं। लेकिन फाइनल एग्जाम से कुछ दिनों पहले मुझे स्ट्रेस रहने लगा था। जिसे दूर करने के लिए मैंने म्यूजिक का सहारा लिया। मैं खुद को स्ट्रेस फ्री रहने के लिए गाना गाती, डांस करती और पियानो बजाती थी। फ्यूचर में मैं मास्टर डिग्री हासिल करके खुद एंटरप्रेन्योर और बनना चाहती हूं।

दीक्षा ने बताया कि परिवार की पिछले 2 साल से आर्थिक स्थिति ठीक नहीं है।

दीक्षा ने बताया कि परिवार की पिछले 2 साल से आर्थिक स्थिति ठीक नहीं है।

फीस जमा करने के लिए पैसे नहीं थे, IAS बनकर पापा की मदद करना चाहती हूँ
12th आर्ट्स स्ट्रीम में 98% मार्क्स हासिल करने वाली दीक्षा अग्रवाल ने बताया कि पिछले कुछ वक्त से मेरे परिवार की आर्थिक स्थिति काफी बिगड़ गई थी। हालात इतने खराब हो गए थे कि मेरे स्कूल की फीस जमा कराने तक के पैसे नहीं थे। जिसकी वजह से मैं भी काफी परेशान रहने लगी थी। लेकिन कुछ रिलेटिव और फैमिली फ्रेंड्स ने हमें सपोर्ट किया। उनकी बदौलत मेरी फीस जमा हुई और में पढ़ पाई हूं। मेरी फैमिली किस कंडीशन से पहले में काफी परेशान थी। लेकिन इसी कंडीशन को मैंने अपना मोटिवेशन बनाया और आज मैं यहां तक पहुंच पाई हूं। मैं चाहती हूं कि मैं जल्द से जल्द अपनी फैमिली की मदद कर सकूं। इसलिए मैं यूपीएससी की तैयारी के साथ साइकोलॉजी में भी काम करना चाहती हूं।

आयुष्य IIT में जाकर सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनना चाहते हैं।

आयुष्य IIT में जाकर सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनना चाहते हैं।

JEE की तैयारी की वजह से सिर्फ 1 महीना की 12th की पढ़ाई
12th साइंस स्ट्रीम में 98% मार्क्स हासिल करने वाले आयुष्य जोशी ने कहा कि मैं जे JEE की प्रिपरेशन भी कर रहा था। इसलिए मैं पूरे साल 12th की स्टडीज को ज्यादा टाइम नहीं दे पाया। लेकिन आखिरी 1 महीने में मैंने एनसीईआरटी की बुक्स को रीड किया। अब मेरा टारगेट एक अच्छी सी IIT में एडमिशन ले कर कंप्यूटर सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनना है।

एक्सीडेंट की वजह से दक्ष 5 दिन तक हॉस्पिटल में एडमिट रहे थे।

एक्सीडेंट की वजह से दक्ष 5 दिन तक हॉस्पिटल में एडमिट रहे थे।

एग्जाम से पहले टूटा हाथ, उलटे हाथ से सीखा लिखना
12th बोर्ड में 93.6% मार्क्स हासिल करने वाले दक्ष गोहिल ने बताया कि एग्जाम से 20 दिन पहले मेरा एक्सीडेंट हो गया था। जिसकी वजह से मेरे हाथ में फैक्चर हो गया और हथेली भी टूट गई थी। इसके बाद मेरा ऑपरेशन हुआ और मेरे हाथ में रोड डाली। जिसकी बाद हाथ पर प्लास्टर बंध गया। एग्जाम से 15 दिन पहले तक मैं लिख नहीं पा रहा था। ऐसे में मेरे पास दो ही ऑप्शन थे। या तो इस बार मैं अपना पेपर ड्रॉप करूं, या फिर उल्टे हाथ से लिखना शुरू करूं। मैंने दूसरे ऑप्शन को चुना और उल्टे हाथ से लिखना शुरु कर दिया। शुरुआत में मेरे से ABCD भी नहीं लिखी गई। लेकिन मैंने धीरे-धीरे कोशिश की और एग्जाम से पहले तक लिखना शुरू कर दिया। मैंने शुरुवात के तीन पेपर अपने उल्टे हाथ से लिख कर ही दिए। जिसकी वजह से मुझे काफी परेशानी भी हुई और ज्यादा वक्त लगा। यहीं कारन है कि मेरा स्कोर भी काफी कम रहा। जबकि मेरी प्रिपरेशन 95% से ज्यादा लाने की थी।

ऐसे चेक कर सकेंगे रिजल्ट

  • सबसे पहले बोर्ड की आधिकारिक वेबसाइट cbse.gov.in पर जाएं।
  • होम पेज पर दिखाई दे रहे 10वीं या 12वीं के रिजल्ट से जुड़े लिंक पर क्लिक करें।
  • अब आप एक नए पेज पर आ जाएंगे।
  • यहां मांगी जा रही जानकारी जैसे अपना रोल नंबर, DOB आदि भरें और सबमिट पर क्लिक करें।
  • आपका रिजल्ट स्क्रीन पर आ जाएगा।

सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन (CBSE) ने 12th इंटरमीडिएट के रिजल्ट जारी कर दिए हैं। जिसमें 92.7% स्टूडेंट्स पास हुए हैं। इस बार लड़कियों का रिजल्ट लड़कों से बेहतर रहा है। 12th के रिजल्ट में लड़के 91.25% पास हुए है। वहीं लड़कों से 329% ज्यादा 94.54% लड़कियां पास हुए है। इस बार 12th के एग्जाम 26 अप्रैल से 15 जून तक आयोजित हुए थे। इस बार के रिजल्ट में CBSE ने टर्म-2 को 70 प्रतिशत वेटेज दिया गया है। जबकि टर्म-1 को 30 प्रतिशत वेटेज दिया गया है।

खबरें और भी हैं…



Source link