धोनी, सचिन के बाद अब इस दिग्गज क्रिकेटर की बायोपिक होगी रिलीज, टीजर ने मचाया धमाल

0
39


नई दिल्ली: क्रिकेट और बॉलीवुड के बीच हमेशा से ही एक तगड़ा रिश्ता रहा है. कई क्रिकेटर्स की शादी बॉलीवुड अभिनेत्रियों से हो चुकी है. वहीं कई क्रिकेट खिलाड़ियों के ऊपर तो बायोपिक भी बनाई जा चुकी है. इनमें मुख्य रूप से महेंद्र सिंह धोनी और सचिन तेंदुलकर का नाम सुनने को आता है. लेकिन इसी बीच एक और क्रिकेटर की बायोपिक अब रिलीज होने के लिए तैयार है. 

अब इस क्रिकेटर पर बनेगी बायोपिक 

स्पोर्ट्स बायोपिक ‘शाबाश मिठू’ का टीजर सोमवार को जारी किया गया. फिल्म में अभिनेत्री तापसी पन्नू मुख्य भूमिका में हैं. यह फिल्म भारतीय महिला क्रिकेट टीम की कप्तान मिताली राज के जीवन पर आधारित है, जिन्हें भारत में क्रिकेट के गेम चेंजर के रूप में जाना जाता है. टीजर में जेंटलमैन के खेल में मिताली की उपलब्धियों को दिखाया गया है, जिसमें पन्नू के चरित्र का अंतिम शॉट एक आने वाली डिलीवरी पर दिखाई देता है.

 

जीवन के संघर्ष पर आधारित है फिल्म

फिल्म, जिसे घरेलू और अंतरराष्ट्रीय स्थानों पर शूट किया गया है, मिताली के जीवन, उतार-चढ़ाव, असफलताओं और उत्साह के क्षणों को दर्शाया गया है. शाबाश मिठू का निर्देशन श्रीजीत मुखर्जी ने वायकॉम 18 स्टूडियो के तहत किया है. फिल्म में विजय राज भी मुख्य भूमिका में हैं.

नाम हैं दुनियाभर के रिकॉर्ड्स

भारतीय महिला टीम की टेस्ट और वनडे क्रिकेट की कप्तान मिताली राज भारत के साथ-साथ ही पूरे दुनिया में काफी फेमस हैं. उनके नाम ढेरों रिकॉर्ड हैं, उन्हें भारतीय ‘महिला क्रिकेट का सचिन तेंदुलकर’ कहा जाता है. मिताली राज अपने पिता की  जिद पर क्रिकेटर बनी थीं. उन्हें डांस करना अच्छा लगा था. बचपन से ही वो डांसर बनना चाहती थी. वह भरतनाट्यम की ट्रेनिंग भी ले चुकी हैं. मिताली के भाई और पापा भी पूर्व क्रिकेटर रह चुके हैं. मिताली राज को बचपन से डांस देखना और करना बहुत ही पसंद था. डांस ही उनका पहला प्यार था. 

वनडे क्रिकेट में सबसे ज्यादा रन बनाने वाली बल्लेबाज 

मिताली राज ने 1999 में आयरलैंड के खिलाफ मैच से इंटरनेशनल डेब्यू किया था. तब से उनका बल्ला रन उगल रहा है. वह पहली महिला खिलाड़ी हैं जिन्होंने वनडे  क्रिकेट में 7000 से ज्यादा रन बनाए हैं. उनके नाम वनडे क्रिकेट में 7 शतक दर्ज हैं. वहीं टी20 क्रिकेट में 2364 रन बनाए हैं. वह बहुत ही क्लासिक बल्लेबाज हैं. उनकी बैटिंग देखकर बड़े से बड़े बल्लेबाज दांतों तले उंगलियां दबा लेते हैं. वह जब क्रीज पर होती हैं, तो भारतीय टीम की जीत पक्की होती है.





Source link