पोर्नोग्राफी केस: मुंबई पुलिस की क्राइम ब्रांच ने दायर की 1500 पन्ने की सप्लीमेंट्री चार्जशीट, कुंद्रा समेत 11 को बनाया आरोपी; जमानत के लिए 16 सितंबर को होगी सुनवाई

0
27


मुंबई28 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

राज कुंद्रा को 19 जुलाई में अरेस्ट किया गया था। इसके बाद से वे सलाकों के पीछे हैं।

पोर्नोग्राफी केस में मुंबई पुलिस की क्राइम ब्रांच ने बुधवार को 1500 पन्ने की सप्लीमेंट्री चार्टशीट मुंबई के एस्प्लेनेड कोर्ट में दायर की है। इस सप्लीमेंट्री चार्जशीट में राज कुंद्रा के अलावा 10 अन्य आरोपी है, ये सभी फरवरी में गिरफ्तार हुए थे। इन सभी के खिलाफ अप्रैल में एक चार्जशीट दायर हुई थी। हालांकि, उस दौरान राज कुंद्रा का नाम इस चार्जशीट में नहीं था।

चार्जशीट में दावा किया गया है कि अब तक गिरफ्तार किए गए 11 आरोपियों के अलावा जांच में इस मामले में अन्य लोगों की संलिप्तता नहीं मिली है। यह मामला तब सामने आया जब क्राइम ब्रांच ने मड आइलैंड स्थित एक बंगले पर छापा मारा था। वहां एक अश्लील फिल्म की शूटिंग की जा रही थी। बाद में, फिल्म को फिल्माने और पोर्टल पर अपलोड करने वाले 9 लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया था।

एक अधिकारी ने बताया कि चूंकि दोनों को 19 जुलाई को गिरफ्तार किया गया था, इसलिए आरोपपत्र दाखिल करने की 60 दिन की अवधि इस रविवार को समाप्त हो रही थी। मामले में गिरफ्तार लोगों की भूमिका के अलावा, चार्जशीट में कोई नया नाम नहीं जोड़ा गया है।” मामले में तीन और FIR दर्ज होने के बाद मुंबई पुलिस ने मामले की जांच के लिए एक विशेष जांच दल(SIT) का गठन किया है। यह FIR इस केस से जुड़े कुछ पीड़ितों द्वारा दर्ज करवाई गई थी, जिन्होंने कहा था कि उन्हें मजबूर कर पोर्न फिल्म रैकेट में धकेला गया।

जमानत के लिए अर्जी दायर कर सकते हैं राज कुंद्रा
इसी मामले में राज कुंद्रा और रयान थोर्प को 19 जुलाई में अरेस्ट किया गया था। इसके बाद से वे सलाकों के पीछे हैं। इसलिए अप्रैल में दायर चार्जशीट में इनका नाम नहीं आ सका था। चार्जशीट मिलने के बाद अब दोनों अपनी जमानत की याचिका दायर कर सकते हैं। उनकी जमानत की अर्जी दो बार सेशन और हाईकोर्ट से खारिज हो चुकी है। एक बार फिर 16 सितंबर को कुंद्रा की जमानत अर्जी पर सत्र न्यायालय में सुनवाई होनी है।

8 सितंबर को राज कुंद्रा के वकीलों द्वारा कोर्ट से अगली तारीख की मांग की गई थी, जिसके बाद सुनवाई की अगली तारीख 16 सितंबर तय की गई। पोर्नोग्राफी मामले में जांच के लिए मुंबई क्राइम ब्रांच ने एक इंवेस्टिगेटिंग टीम बनाई थी। इस टीम को एक एसीपी लेवल का ऑफिसर हेड कर रहे थे।

एक क्लू के आधार पर राज पर हुई कार्रवाई
चार्जशीट के मुताबिक, फरवरी में क्राइम ब्रांच को एक क्लू मिला था। इसके आधार पर ही मुंबई के एक बंगले पर रेड हुई। तब गिरफ्तार लोगों में से कुछ ने दावा किया था कि वो राज कुंद्रा के लिए काम कर रहे हैं। उस वक्त इस बयान के अलावा कोई सबूत नहीं था। पुलिस ने राज कुंद्रा जैसे सेलिब्रिटी बिजनेसमैन को सिर्फ इस आधार पर गिरफ्तार करना ठीक नहीं समझा। उस वक्त जो भी कार्रवाई हुई, उसमें राज का नाम शामिल नहीं किया गया था। बाद में राज के खिलाफ सबूत मिले और उन्हें गिरफ्तार किया गया।

खबरें और भी हैं…



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here