Alto 800 और Hyundai i20 जैसी 17 कारें अगले साल से नहीं खरीद पाएंगे ग्राहक! जानें क्या है वजह?

0
19


हाइलाइट्स

देश में अगले साल अप्रैल से रियल ड्राइविंग एमिशन नियम लागू हो रहे हैं.
इन नए नियमों को असर वर्तमान में बेची जा रही करीब 17 कारों पर होगा.
कंपनियां इन कारों को अपग्रेड भी कर सकती हैं, लेकिन कीमत बढ़ जाएगी.

नई दिल्ली. देश में कार खरीदारों के लिए आने वाले नए साल के लिए अब तक अच्छी खबर नहीं आई है. प्रमुख कार कंपनियों ने जनवरी 2023 से सभी मॉडलों की कीमतों में बढ़ोतरी की घोषणा की है. अब, रिपोर्ट्स बताती हैं कि कई ऑटो निर्माताओं द्वारा पेश की जाने वाली 17 कारों को अप्रैल 2023 से बंद किया जा सकता है. इसकी वजह देश में अगले साल अप्रैल से रियल ड्राइविंग एमिशन (RDE) नॉर्म्स नाम के उत्सर्जन नियम लागू होने जा रहे हैं. हालांकि, कंपनियां इन कारों को अपग्रेड भी कर सकती हैं, लेकिन कीमत बढ़ जाएगी.

RDE का मतलब है कि अब वाहनों में रीयल-टाइम ड्राइविंग उत्सर्जन स्तर की निगरानी के लिए ऑनबोर्ड सेल्फ डायग्नोस्टिक डिवाइस लगाया जाएगा. यह उपकरण उत्सर्जन पर कड़ी नजर रखने के लिए उत्सर्जन मानकों को पूरा करने के लिए कनवर्टर और ऑक्सीजन सेंसर जैसे प्रमुख हिस्सों की लगातार निगरानी करेगा.

ये भी पढ़ें-  Maruti की इन कारों के मालिक हैं तो जाएं सतर्क! फास्ट ड्राइव करने से बचें, क्योंकि…

अभी लैब में टेस्ट किए जाते थे वाहन
अब तक वाहनों के उत्सर्जन स्तर को लैब में टेस्ट किया जाता था. इसमें सबसे बड़ी समस्या यह थी कि जब वाहन का रियल लाइफ कंडीशन में इस्तेमाल किया जाता है, तो उसका उत्सर्जन लेवल बढ़ जाता था. ऐसे में अब सरकार ने पैसेंजर और कमर्शियल वाहनों में उत्सर्जन लेवल को मॉनिटर करने के लिए इस डिवाइस को लगाना अनिवार्य कर दिया है.

ये भी पढ़ें- इस सस्ती SUV ने भारत में बनाया रिकॉर्ड, खरीदने के लिए लाइन में लगे 1 लाख से ज्यादा ग्राहक!

ये डिवाइस भी होंगे अपग्रेड
यहां तक कि वाहन द्वारा उपयोग किए जाने वाले सेमीकंडक्टर को भी थ्रॉटल, क्रैंकशाफ्ट की स्थिति, एयर इनटेक प्रेशर, इंजन के तापमान और एग्जॉस्ट से उत्सर्जन की सामग्री (पार्टिकुलेट मैटर, नाइट्रोजन ऑक्साइड, CO2, सल्फर) आदि की निगरानी के लिए अपग्रेड करना होगा. इसके अलावा ईंधन जलने के स्तर को नियंत्रित करने के लिए वाहनों में प्रोग्राम किए गए फ्यूल इंजेक्टर भी होंगे.

ये फोर व्हीलर हो सकती हैं बंद
जिन कारों को अगली साल से बंद किया जा सकता है, उनमें टाटा अल्ट्रोज डीजल, महिंद्रा मराजो, महिंद्रा अल्टुरस जी4, महिन्द्रा केयूवी100, स्कोडा ऑक्टेविया, स्कोडा सुपर्ब, रेनो क्विड, निसान किक्स, मारुति सुजुकी ऑल्टो 800, टोयोटा इनोवा क्रिस्टा पेट्रोल, हुंडई i20 डीजल हुंडई वरना डीजल, होंडा सिटी 5वीं जेन डीजल, होंडा सिटी चौथी जेन डीजल, होंडा अमेज डीजल, होंडा जैज और होंडा डब्ल्यूआर-वी शामिल हैं.

Tags: Autofocus, Automobile, Car Bike News, Honda, Hyundai, Maruti Alto 800, Maruti Suzuki, Tata Motors



Source link