Covid 4th wave in India: भारत में इस महीने आएगी कोविड-19 की चौथी लहर, इन 2 लक्षणों पर रखें पैनी नजर!

0
112


Covid Fourth Wave India: दुनिया में कोविड-19 का प्रकोप एक बार फिर से फैल रहा है और इसके पीछे डेल्टाक्रॉन वैरिएंट नहीं है. बल्कि ओमिक्रॉन सब वैरिएंट बीए.2 (Stealth Omicron) को इसका कारण बताया जा रहा है. ओमिक्रॉन सब वैरिएंट के मामले बढ़ने पर भारत में भी चौथी लहर को लेकर शंकाएं पैदा हो गई है. जिसके बीच कर्नाटक के स्वास्थ्य मंत्री और आईआईटी कानपुर ने अगस्त का समय बताया है. वहीं, एक्सपर्ट ने ओमिक्रॉन सब वैरिएंट के 2 लक्षणों को मुख्य बताया है.

अगस्त में आएगी कोरोना की चौथी लहर – कर्नाटक स्वास्थ्य मंत्री
दुनिया में कोरोना महामारी के मामले तेजी से बढ़ने के बाद कर्नाटक के स्वास्थ्य मंत्री डॉ. के सुधाकर ने चौंकाने वाला खुलासा किया है. उन्होंने शू्न्य काल के दौरान बताया कि भारत को अलर्ट पर रहने की जरूरत है. क्योंकि, अगस्त में कोविड-19 की चौथी लहर का सामना करना पड़ सकता है. उन्होंने अपने बयान के पीछे आईआईटी कानपुर द्वारा मैथमेटिकल मॉडल को आधार बताया. हालांकि, उन्होंने कहा कि हमें इससे घबराने की जरूरत नहीं है, क्योंकि हम पहले ही बहुत बड़े स्तर पर हुए कोरोना टीकाकरण के जरिए इम्युनिटी स्ट्रॉन्ग कर चुके हैं. अभी तक लोगों को भारत में चौथी लहर के लिए डेल्टाक्रॉन का डर लग रहा था. 

Stealth Omicron Symptoms: ओमिक्रॉन सब वैरिएंट BA.2 के खास लक्षण
कई विदेशी रिसर्च के मुताबिक, ओमिक्रॉन सब वैरिएंट बीए.2 के 2 खास लक्षण देखने को मिल रहे हैं. जिसमें चक्कर आना और अत्यधिक थकान होना शामिल है. इसके अलावा, कोरोना का यह वैरिएंट पेट और आंतों पर ज्यादा असर करता है. जिसके कारण उल्टी, पेट दर्द, सीने में जलन, भूख ना लगना, पीठ दर्द, दस्त, आंत में सूजन जैसे लक्षण दिख सकते हैं. वहीं, कोरोना के निम्नलिखित सामान्य लक्षणों पर भी ध्यान रखने की जरूरत है. जैसे-

  • सांस फूलना
  • बुखार
  • शरीर में दर्द
  • गले में खराश
  • स्वाद का जाना
  • खांसी
  • सिर दर्द, आदि

अभी तक 40 देशों को चपेट में ले चुका है नया वैरिएंट
डॉ. के सुधाकर ने बताया कि ओमिक्रॉन सब वैरिएंट सबसे पहले फिलीपींस में पाया गया था. जिसके बाद यह 40 देशों को अपनी चपेट में ले चुका है. जिसमें चीन और अमेरिका भी शामिल हैं. मगर Omicron Sub Variant BA.2 का सबसे बुरा प्रकोप साउथ कोरिया में देखने को मिल रहा है, जहां हर दिन करीब 5 लाख मामले देखने को मिल रहे हैं.

Disclaimer
इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है. हालांकि इसकी नैतिक जिम्मेदारी ज़ी न्यूज़ हिन्दी की नहीं है. हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें. हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है.





Source link