Health Tips: रोजाना अपनाएं ये 3 ट्रिक्स, एसिडिटी और इनडाइजेशन की समस्या होगी दूर

0
47


यह त्योहार, मिलनसार और उत्सव का सीजन है और इसका मतलब यह भी है कि खूब खाना-पीना! लेकिन इस बीच यह मत भूल जाइएगा कि आपका पेट खराब हो सकता है. त्योहारों के मौसम में कई तरह के फूड्स से सूजन, गैस और एसिडिटी की समस्या बढ़ जाती है. गैस्ट्रिक एसिड के अधिक उत्पादन से हमारे पेट में एसिडिटी हो जाती है, जो आगे चलकर हमारे सीने या पेट में जलन पैदा कर सकती है. हमारे पेट में एसिड निकलता है, जो खाए हुए खाने के पाचन को तेज करने में मदद करता है. एसिडिटी और अपच (इनडाइजेशन) से बचने के लिए आप रोजाना ये 3 ट्रिक्स अपना सकते हैं. इससे आपको कभी तकलीफ नहीं होगी.

अपनी भूख का 80% खाएं
हर किसी को ‘हारा हची बू’ के सिद्धांत का पालन करना चाहिए. यह एक जापानी शब्द जिसका मतलब जब तक आप 80 प्रतिशत पूर्ण नहीं हो जाते तब तक खाएं. इसकी उत्पत्ति ओकिनावा शहर में हुई, जहां लोग इस सलाह का पालन करके आदतों को नियंत्रित करते हैं. दिलचस्प बात यह है कि इन लोगों में दिल, कैंसर और स्ट्रोक से होने वाली बीमारियों की दर सबसे कम है. आप भी यह नियम अपना सकते हैं. 

खाना 32 बार चबाएं
भोजन को ठीक से चबाने से आपके मुंह में बहुत अधिक पाचक लार बनती है और यह पेट में पाचन में हेल्प करता है. भोजन के अधिकांश काटने के लिए औसतन 32 चबाने की सलाह दी जाती है. बेशक, ब्रेड के एक टुकड़े की तुलना में, तरबूज जैसे नरम पानी से भरे भोजन को खाते समय आपको कम चबाना चाहिए.

खाना खाते समय पानी, जूस या सोडा न पिएं
जब आप खाना खाते समय तरल पदार्थ पीते हैं, तो यह आपके पेट से पाचक रसों को धो देता है. यह आपके पाचन तरल पदार्थ को पतला कर सकता है. पानी एक शीतलक है और नियमित रूप से भोजन के दौरान या बाद में इसका सेवन करने से पाचन प्रक्रिया में बाधा आ सकती है. इसलिए, जब एक बार आप अपना भोजन कर लें तो पानी पीने से पहले कम से कम आधे घंटे तक प्रतीक्षा करें.

Disclaimer:
इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है. हालांकि इसकी नैतिक जिम्मेदारी ज़ी न्यूज़ हिन्दी की नहीं है. हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें. हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है.





Source link