ICC World Cup: 2023 वर्ल्ड कप से पहले BCCI पर उठ रहे सवाल, IPL है सबसे बड़ी वजह

0
26


2023 ICC World Cup: भारत के पास सबसे अमीर क्रिकेट बोर्ड (BCCI), सुपरस्टार्स से भरी टीम, दुनिया की सर्वश्रेष्ठ लीग (आईपीएल) और ढेर सारे टैलेंट हैं, लेकिन इन सबके बावजूद देश पिछले नौ साल से आईसीसी की ट्रॉफी नहीं जीत पाया है, जो हमारी प्राथमिकताओं पर सवाल खड़ा करता है.

2023 वर्ल्ड कप से पहले BCCI पर उठ रहे सवाल

पहले से ही समृद्ध बीसीसीआई ने 2022 में दो नई आईपीएल टीमों (12,715 करोड़ रुपये) और मीडिया अधिकारों की बिक्री (48,390 करोड़ रुपये) के साथ कुछ बड़ी रकम जोड़ी, जिसकी भारतीय क्रिकेट के शुभचिंतकों ने तारीफ की. बीसीसीआई के लिए कमाई के अलावा, 2022 अन्य कारणों से भी भारतीय क्रिकेट के लिए एक घटनापूर्ण वर्ष था. कप्तान के रूप में विराट कोहली को हटाना, नए कप्तान के रूप में रोहित शर्मा का आगमन और कोच राहुल द्रविड़, और बीसीसीआई अध्यक्ष के रूप में सौरव का गांगुली को हटाना अन्य बड़ी घटनाएं थीं, जिन्होंने सर्किट में लहरें पैदा कीं.

द्रविड़ की कोचिंग पर सवाल

हालांकि, यह एशिया कप और आईसीसी टी20 विश्व कप में निराशा थी, जिसने प्रशंसकों को सबसे अधिक आहत किया. भारतीय क्रिकेट प्रशंसकों को उनके पिछले रिकॉर्ड के कारण कप्तान रोहित और कोच द्रविड़ से बहुत उम्मीदें थीं, जबकि रोहित ने पांच आईपीएल खिताब और एक एशिया कप जीता था, द्रविड़ ने उनकी कोचिंग के तहत, वर्ल्ड कप जीत के लिए अंडर-19 टीम का नेतृत्व किया था और भारत-ए पक्षों के साथ नवोदित प्रतिभाओं का पोषण कर रहे थे.

न्यूजीलैंड और बांग्लादेश के खिलाफ लगातार वनडे सीरीज हार गया भारत 

टी20 वर्ल्ड कप की बात करें तो भारत को अंतिम विजेता इंग्लैंड के खिलाफ सेमीफाइनल में 10 विकेट से अपमानजनक हार का सामना करना पड़ा. आईसीसी इवेंट ही नहीं, भारत अब न्यूजीलैंड और बांग्लादेश के खिलाफ लगातार वनडे सीरीज हार गया है, जो भविष्य के बारे में कुछ गंभीर सवाल उठाता है. क्या अंतरराष्ट्रीय पुरुष क्रिकेट बीसीसीआई और भारतीय क्रिकेट के हितधारकों की प्राथमिकता सूची में है, या वे सिर्फ आईपीएल की व्यावसायिक सफलता से खुश हैं?

बीसीसीआई को पुरुष क्रिकेट पर ध्यान देने की जरूरत

यदि कोई मुद्दा है तो बीसीसीआई को इसका समाधान खोजने और कुछ साहसिक निर्णय लेने की जरूरत है. 2015 आईसीसी क्रिकेट वर्ल्ड कप में अपने निराशाजनक ग्रुप-स्टेज से बाहर होने के बाद, इंग्लैंड ने कुछ साहसिक फैसले लिए, खेल के लिए एक आक्रामक रवैया अपनाया और अब 50 ओवर और टी20 वर्ल्ड कप दोनों के चैंपियन हैं. इसी तरह बीसीसीआई को भी भारतीय पुरुष क्रिकेट पर ध्यान देने की जरूरत है.

भारतीय क्रिकेट चोटों से पीड़ित

खैर, हर कोई जानता है कि भारतीय क्रिकेट में ये चीजें आसान नहीं हैं, जहां खिलाड़ी देवता होते हैं. लेकिन, किसी न किसी को निर्णय लेना ही होगा. कुछ जवाबदेही होनी चाहिए, अन्यथा, भारतीय क्रिकेट को नुकसान होता रहेगा, खासकर आईसीसी आयोजनों में. राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी (एनसीए) से भी प्रश्न पूछे जाने की आवश्यकता है, क्योंकि भारतीय क्रिकेट बार-बार होने वाली कई चोटों से पीड़ित है. 

खिलाड़ियों की प्राथमिकता पर निर्भर

हाल के दिनों में ऐसे कई उदाहरण हैं, जब कोई खिलाड़ी चोटिल हो जाता है, रिहैब के लिए एनसीए जाता है, फिट हो जाता है, वापसी करता है और सिर्फ दो तीन मैचों के बाद टूट जाता है. पिछले तीन 50 ओवरों के वर्ल्ड कप मेजबानों (भारत – 2011, ऑस्ट्रेलिया – 2015 और इंग्लैंड – 2019) द्वारा जीते गए हैं और भारत अगले साल मेगा इवेंट की मेजबानी कर रहा है. अगर हम अपनी परिस्थितियों में नॉकआउट में अच्छा प्रदर्शन नहीं करते हैं तो यह वाकई शर्म की बात होगी. आखिरकार, यह सब बोर्ड, कोचिंग स्टाफ और खिलाड़ियों की प्राथमिकता पर निर्भर करता है.





Source link