Monkeypox Symptoms: मंकीपॉक्स का ये है सबसे शुरुआती लक्षण, शरीर पर दिखे तो समझिए घेर ली बीमारी!

0
24


Monkeypox Symptoms: भारत में मंकीपॉक्स के 4 मामले आ चुके हैं, जिसके बाद लोग मंकीपॉक्स को लेकर काफी चिंतित हो गए हैं. लेकिन मंकीपॉक्स का एक लक्षण सबसे खतरनाक होता है, जो इसे दूसरी बीमारियों से अलग बनाता है. मंकीपॉक्स के इस लक्षण को देखकर आप आसानी से मंकीपॉक्स की पहचान कर सकते हैं. आइए मंकीपॉक्स के इस लक्षण (monkeypox symptoms) के बारे में जानते हैं.

Monkeypox Symptoms: इस लक्षण से पहचानें मंकीपॉक्स
मंकीपॉक्स की बीमारी को लेकर कोई शंका या अफवाह ना फैले, इसलिए विश्व स्वास्थ्य संगठन ने पूरी जानकारी दे रखी है. डब्ल्यूएचओ कहता है कि मंकीपॉक्स के कारण रैशेज, बुखार, मांसपेशियों में दर्द, कमर दर्द, एनर्जी में कमी जैसे लक्षण (common symptoms of monkeypox virus) दिखते हैं. लेकिन यह लक्षण किसी अन्य बीमारी के कारण भी दिख सकते हैं. मंकीपॉक्स का सबसे खतरनाक या विशेष लक्षण लिम्फ नोड्स में सूजन आना है. लिंफ नोड्स आपके गले के दोनों ओर होते हैं. जो इसे आम बीमारियों से अलग बनाता है.

इस वक्त तक मरीज फैला सकता है मंकीपॉक्स
मंकीपॉक्स के लक्षणों में चेहरे, हथेलियों, तलवों, आंखों, मुंह, गले, जांघ और जननांग आदि पर दाने-रैशेज-छाले होना भी शामिल है. जो कि आमतौर पर 2 से 3 हफ्तों में अपने आप ठीक हो जाते हैं. ध्यान रखें कि जबतक मंकीपॉक्स के मरीज के सभी छाले या दाने सूख नहीं जाते, तबतक वह संक्रमण फैला सकता है.

70 से अधिक देशों में फैल चुका है मंकीपॉक्स वायरस
सीडीसी की रिपोर्ट के मुताबिक, 22 जुलाई शाम 5 बजे तक मंकीपॉक्स (monkeypox virus) 74 देशों तक फैल चुका है. जिसमें से 68 नए देश हैं, जिनमें मंकीपॉक्स के केस देखने को मिल रहे हैं. इन नए देशों में कुल 16,836 मामलों में से 16,593 मामले मिल चुके हैं. बता दें कि मंकीपॉक्स एक ऐसी बीमारी है, जो जूनोटिक वायरस के फैलने से हो रही है. यह जानवरों से इंसानों में और इंसान से इंसान में फैल सकती है.

Monkeypox Virus spread: किन तरीकों से फैलता है मंकीपॉक्स वायरस?
अभी तक मौजूद जानकारी के मुताबिक, मंकीपॉक्स वायरस संक्रमित इंसान को करीब से छूने, फेस टू फेस कॉन्टैक्ट, चुंबन, यौन संबंध, म्यूकस, रेस्पिरेटरी ड्रॉप्लेट्स आदि के द्वारा फैल सकता है. वहीं, अगर जानवरों से इंसानों में मंकीपॉक्स वायरस फैलने की बात की जाए, तो यह संक्रमित जानवरों को छूने, अधपका मांस खाने आदि से फैलता है.

Disclaimer:
इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है. हालांकि इसकी नैतिक जिम्मेदारी ज़ी न्यूज़ हिन्दी की नहीं है. हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें. हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है.





Source link