RBI की इस योजना में शामिल होकर जीतिए 40 लाख, सुझाने होंगे आसान उपाय

0
64


नई दिल्ली: अगर आप 40 लाख रुपये जीतना चाहते हैं तो रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) आपको शानदार मौका दे रहा है. जरअसल डिजिटल पेमेंट को और भी ज्यादा सुरक्षित (Safe) बनाने के लिए आरबीआई पहली बार ग्लोबल हैकाथॉन (1st Global Hackathon) का आयोजन कर रहा है. इस ग्लोबल हैकाथॉन के जरिए आप 40 लाख रुपये जीत सकते हैं. 

RBI ने क्या कहा?

RBI के मुताबिक, ‘हार्बिंजर 2021’ (HARBINGER 2021) नाम के इस हैकाथॉन के लिए रजिस्ट्रेशन 15 नवंबर से शुरू होंगे. भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने मंगलवार को अपने पहले वैश्विक हैकथॉन ‘HARBINGER 2021-इनोवेशन फॉर ट्रांसफॉर्मेशन’ की घोषणा ‘स्मार्टर डिजिटल पेमेंट्स’ थीम के साथ की.

आरबीआई ने किया ऐलान

RBI ने इस हैकथॉन की घोषणा करते हुए कहा कि इस हैकथॉन की विषयवस्तु डिजिटल भुगतान को अधिक से अधिक चुस्त व दुरुस्त बनाना है, जिससे कि इसमें और अधिक सुधार किया जा सके. 

यह भी पढ़ें: कभी साफ करते थे गाड़ियां, PF के पैसों से शुरू किया बिजनेस; इस तरह बदली किस्‍मत

पैसे जीतने के लिए करना होगा ये काम

आरबीआई ने बताया कि इस प्रतियोगिता में भाग लेने वाले प्रतियोगियों को उद्योग के जानकारों का मार्गदर्शन हासिल करने और अपने इनोवेटिव समाधान दिखाने का मौका मिलेगा. यहां पर जजों की एक ज्यूरी होगी जो कि हर एक वर्ग के विजेताओं को सलेक्ट करेगी. 

इन्हें मिलेगा 40 लाख रुपये का इनाम

आरबीआई ने बयान में कहा, हार्बिंजर 2021 का हिस्सा बनने से प्रतिभागियों को उद्योग के जानकारों का मार्गदर्शन हासिल करने और अपने इनोवेटिव समाधान दिखाने का मौका मिलेगा. एक ज्यूरी हर एक वर्ग में विजेताओं का चयन करेगी. पहला स्थान पाने वाले को 40 लाख रुपये दिए जाएंगे, जबकि दूसरे स्थान पर रहने वाले प्रतिभागी को 20 लाख रुपये का इनाम मिलेगा.

यह भी पढ़ें: PM Kisan के डबल होने वाले हैं पैसे? ऐसे चेक करें किस्त का स्टेटस

ऐसे चुने जाएंगे विनर्स 

  1. नकद लेनदेन को डिजिटल मोड में बदलने के लिए नए और आसान तरीके निकालें

  2. बिना कॉन्टेक्ट के रिटेल पेमेंट को बेहतर बनाने पर फोकस हो

  3. डिजिटल पेमेंट में ऑथेन्टिकेशन मैकेनिज्म का दूसरे और तरीके निकालना

  4. डिजिटल पेमेंट फ्रॉड और धोखाधड़ी को पता लगाने के लिए सोशल मीडिया एनालिसिस मॉनिटरिंग टूल बनाना

नकदी की मांग में दर्ज की गई बढ़ोतरी

आपको बताते चलें कि कोविड-19 महामारी के कारण अनिश्चितताओं की वजह से दुनिया भर में नकदी की मांग में बढ़ोतरी देखी गई है. आधिकारिक आंकड़े प्लास्टिक कार्ड, नेट बैंकिंग और यूनिफाइड पेमेंट्स इंटरफेस (UPI) सहित विभिन्न तरीकों से डिजिटल भुगतान में उछाल की ओर इशारा करते हैं. भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम (NPCI) का यूपीआई प्रणाली देश में भुगतान के एक प्रमुख माध्यम के रूप में तेजी से उभर रहा है. यूपीआई को 2016 में लॉन्च किया गया था और इसके जरिये लेन-देन महीने-दर-महीने बढ़ रहा है.

LIVE TV





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here