Vitamin B6 Overdose: विटामिन बी6 के ओवरडोज से पैर हो सकते है पैरालाइज, इन बातों का रखें ध्यान

0
32


विटामिन बी6 (पाइरिडोक्सिन) एक पानी में घुलनशील विटामिन है, जो प्राकृतिक रूप से कई खाद्य पदार्थों में पाया जाता है. यह शरीर में रेड ब्लड सेल्स और न्यूरोट्रांसमीटर के निर्माण के लिए महत्वपूर्ण होता है. विटामिन बी 6 हमें सप्लीमेंट्स या बैलेंस डाइट से मिलता है. विटामिन बी 6 कई सारी गंभीर बीमारियों के खतरे को कम करता है. दूसरे विटामिन की तरह, विटामिन बी 6 भी शरीर में खाने को एनर्जी में बदलने में मदद करता है. इसके साथ ही हमारे शरीर में खाने से पोषक तत्वों को अवशोषित करने में भी मदद करता है. शोधकर्ता बताते हैं कि विटामिन बी 6 हमारी इम्यूनिटी मजबूत और दिमाग के कुछ कामों में भी मदद करता है. लेकिन शरीर में विटामिन बी 6 ज्यादा हो जाने से आपकी सेहत खराब हो सकती है.

शरीर में विटामिन बी6 का टॉक्सिक होना दुर्लभ है, क्योंकि ज्यादा बी विटामिन पेशाब के माध्यम से निकल जाते हैं. ज्यादा मात्रा में विटामिन लेने से शरीर में टॉक्सिक पदार्थ बन सकते हैं. 200 मिलीग्राम से ज्यादा विटामिन बी 6 की खुराक लेने से न्यूरोलॉजिकल डिसऑर्डर, नस डैमेज और पैर पैरालाइज हो सकते हैं. विशेषज्ञों के अनुसार, 50 वर्ष से कम उम्र के लोगों को रोजाना सिर्फ 1.3 मिलीग्राम विटामिन बी6 लेना चाहिए. वहीं, 50 वर्ष से ज्यादा उम्र की महिलाओं को 1.5 मिलीग्राम और पुरुषों को 1.7 मिलीग्राम विटामिन बी 6 लेना चाहिए.

किन फूड्स में होता है विटामिन बी 6
चिकन, मछली, चने, मूंगफली, सोयाबीन, जई, केले और दूध में विटामिन बी6 की मात्रा अधिक होती है. जिन लोगों को किडनी की बीमारी होती है, उनमें विटामिन बी 6 की कमी हो सकती है.

विटामिन बी 6 की कमी
विटामिन बी 6 की कमी अक्सर तब होती है, जब शरीर में अन्य बी विटामिन कम होते हैं, विशेष रूप से विटामिन बी 12 और फोलिक एसिड. हल्की विटामिन बी 6 की कमी के कोई लक्षण नहीं हो सकते हैं, लेकिन अधिक गंभीर या लंबे समय तक इसकी कमी होने से माइक्रोसाइटिक एनीमिया, स्किन प्रॉब्लम, डिप्रेशन, भ्रम और इम्यूनिटी कम हो सकती है. किडनी की बीमारी, ऑटोइम्यून आंतों के विकार में रोग और रुमेटीइड गठिया जैसी बीमारियां विटामिन बी 6 के ज्यादा होने से हो सकती हैं.

Disclaimer:
इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है. हालांकि इसकी नैतिक जिम्मेदारी ज़ी न्यूज़ हिन्दी की नहीं है. हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें. हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है.





Source link